बेहतर Communication Skill के लिए 7 टिप्स

 ऐसा कहा जाता है कि दुनिया में जितने भी सफल आदमी हुए है इनके पीछे उनकी बेहतर कम्युनिकेशन स्किल का हाथ रहा है। अगर आप भी अपनी जिंदगी में कुछ हासिल करना चाहते है तो ये जरूरी है कि आपकी कम्युनिकेशन स्किल दूसरों से बेहतर हो। किसी भी इंसान की कम्यूनिकेशन स्किल उसकी पर्सनेलिटी का ही हिस्सा है इसलिए पर्सनेलिटी को इंप्रूव करने के लिए कम्यूनिकेशन स्किल को बेहतर करना जरूरी है। दरअसल कम्यूनिकेशन स्किल हमारी बातचीत का ही हिस्सा है और बात करना भी एक कला है। ये बिल्कुल भी जरूरी नही है कि हर इंसान को बात करने का कला या सही तरीका आता हो। अगर आपकी कम्यनिकेशन स्किल अच्छी है तो सफलता आपके कदम चूमेंगी क्योंकि आपकी सफलता आपकी कम्यूनिकेशन स्किल पर काफी हद तक निर्भर करती है। इसलिए बेहतर कम्यूनिकेशन स्किल का होना जरूरी है।



इन 7 टिप्स से आप अपनी कम्युनिकेशन स्किल को बेहतर कर सकते है- 

1.बॉडी लैंग्वेज- एक अच्छी कम्यूनिकेशन के लिए आपका अपनी बॉडी लैंग्वेज पर कंट्रोल होना जरूरी है। क्योंकि ऐसा कई बार होता है कि लोग बोलते कुछ है और उनकी बॉडी लैंग्वेज कुछ और ही बोलती है। इसलिए इस बात का ध्यान रखे कि आप जो बोल रहे है आपकी बॉडी लैंग्वेज भी वही बोले। 

2.सहज बने- हमेशा एक सहज इंसान बनने की कोशिश करें तोकि लोग आपसे आसानी से बात कर सके। इसके अलावा कभी भी अपनी बातों को घूमा-फिराकर या तकिया कलाम लगाकर नही कहें, इससे सामने वाले पर नेगेटिव प्रभाव पड़ता है।

 3.सही भाषा का चयन- जब भी आप किसी से बात कर रहे हो उस समय सही शब्दों का चयन करें, कभी भी काम चलाऊ या सस्ते शब्दों को अपनी बातों में शामिल न करें। क्योंकि जब आप अच्छे और इंप्रेसिव शब्दों का चयन करने लगेंगे तब लोग आपकी बातों को ध्यान से सुनने लगेंगे।

4.उम्र और प्रोफेशन का ध्यान- हर शख्स से बात करने का अलग तरीका होता है इसलिए जब भी आप किसी से बात करें तो उसकी उम्र और प्रोफेशन का ध्यान रखे। जब आप किसी छोटे बच्चे से बात कर रहे है तो उसका तरीका अलग होगा और जब आप ऑफिस में बात कर रहे है तो उसका तरीका अलग होगा।

 5. प्वॉइंट टू प्वॉइंट का तरीका अपनाएं- हमेशा अपनी बात को कहते समय प्वॉइंट टू प्वॉइंट का तरीका अपनाएं, ताकि सामने वाला आपकी बात आसानी से समझ जाए बातों में सामने वाले को उलझाने की कोशिश न करे।

6.अच्छे श्रोता बने- एक अच्छा वक्ता वही बन सकता है जो अच्छा श्रोता होता है, इसलिए सिर्फ बोले ही नही बल्कि सामने वाले की बातों को ध्यान से सुने और उसमें इंट्रेस्ट भी लें। 

7.विश्वास- कभी भी अपनी खुद की बातों को नही काटे, आप जो भी बोल रहे है उसमें आपका विश्वास होना जरूरी है और आपकी बातों से ये विश्वास छलकना भी चाहिए।




Post a comment

0 Comments