गांव के युवाओं को सेना में जाने के लिए प्रेरित कर रहा धावक विनोद देता हैं फ्री में ट्रेनिंग

  धावक विनोद युवाओं को सुबह चार बजे  ग्राउंड बुलाते हैं। वहां से उनकी ट्रेनिंग शुरू होती है। दौड़ लगाने के बाद, एक्सरसाइज और फिर पढ़ाई। सुबह सात सात बजे तक उनका यह नियम रोज होता है।



 ग्रामीण इलाकों के कई युवा ऐसे हैं जो सेना में जाकर देश की सेवा करने चाहते हैं लेकिन उन्हें मौका नहीं मिल पाता। पाली जिले के खरिया नींव गांव  में ऐसे ही युवाओं को रास्ता दिखाने के लिए   धावक विनोद काम कर रहा हैं।   धावक विनोद नेशनल में  जीत  चुका है पदक वह आगे अंतरराष्ट्रीय के लिए तैयारी कर रहे हैं सिर्फ अपने ही नहीं बल्कि आसपास गांव के युवाओं में सेना में जाने के लिए ट्रेनिंग और कोचिंग दे रहे हैं, वह भी निःशुल्क  वह सुबह चार बजे उठकर युवाओं की टोली के साथ ग्राउंड  में दौड़ते हैं और एक्सरसाइस करते हैं।और उन्हें रास्ता दिखाते हैं कि वह कैसे सेना में जाकर देश की सेवा कर सकते हैं। विनोद BSF कौच राम  बहादुर शुबबा ( सिक्किम ) मैं  तैयारी  करता है  लोकडाउन की  वजह  से  अभी  धावक  घर  पर है यहां कई युवा उनके पास आए और खुद के सेना में जाने की बात कहने लगे।  युवाओं ने  विनोद  से मदद मांगी तो  विनोद   ने भी उन्हें सेना के लिए तैयार करने की ठानी। ट्रेनिंग शुरू करने से पहले और ट्रेनिंग के बाद सारे युवा हाथ उठाकर भारत माता की जय और वंदे मातरम के नारे भी लगाते हैं। 

पांच बच्चों के साथ शुरू हुआ उनका यह अभियान बढ़ रहा है। अब उनके कैंप में पच्चीस लड़के शामिल हो गए हैं जो रोज सुबह चार बजे ट्रेनिंग के लिए पहुंच जाते हैं।

 युवाओं को सेना में भर्ती करवाने और खेलों में आगे बढ़ाने के लिए विनोद ने फ्री फिजिकल कोचिंग और Star India Athletic  एकेडमी शुरू की।  एकेडमी में युवाओं को फिजिकल की भी तैयारी करवाई जा रही हैं। एकेडमी मैं  गांव के आप पास के युवा आकर प्रैक्टिस कर रहे हैं। 50 लड़को को फ्री में ट्रेनिंग दी जा रही है।

कभी खत्म नहीं होती देश प्रेम की भावना

सैनिक के अंदर का अनुशासन, जज्बा और देशप्रेम की भावना कभी खत्म नहीं हाेती। चाहे वह बाॅर्डर पर हाे या फिर गांव के दंगल में। आने वाले महीनों मैं सेना भर्ती हैं 

ऐसे में हम यहां बात कर रहे हैं धावक विनोद सीरवी की जो युवाओं को सेना भर्ती के लिए बिना किसी स्वार्थ के तैयार कर रहे हैं।



Post a comment

0 Comments